मंजिल

जानिबे -ए -मंज़िल कि ओर अब यू बढ़ तू ,
कि जीत कें अलावा कुछ और नही चाहिए॥

4 Likes

Bilkul teekh kaha…

1 Like

:pray: