This is reality (each & every single word )

प्यार और इश्क़ का बखान लिए बैठा हूँ ।
ज़िन्दगी को रोज़ एक इम्तेहान दिये बैठा हूँ ।
मेरे शहर के लोग मेरे दीदार के तालिब हैं ।
में अंजान शहर में नई पहचान लिए बैठा हूँ ।

गिरते जा रहे हैं कुछ अपने ही मेरी नज़र से में उनके सामने अंजान बना बैठा हूँ ।
वो जहाँ तक पहुँचना चाहते ,में छोड़े हुए वो मुकाम बैठा हूँ ।

अपने दिल में बुजुर्गों के अहकाम लिये बैठा हूँ ।
अपनो की ख्वाहिश पूरी करने में ख़ुद से शिकायतें तमाम लिये बैठा हूँ ।

मेरी क़ामयाबी उनके लब की हँसी है , उनसे बस यही एक ईनाम लिए बैठा हूँ ।
कल फुर्सत से गुज़र सके उनके साथ इसलिये आज बहुत से काम लिये बैठा हूँ ।

मेरे क़लम से इश्क़ और मोहब्बत की बाते सुनके मुझेपे शक़ करने वालो।
होश उड़ जायेंगे अग़र असलियत लिख डाली अंदर इतना तूफ़ान लिए बैठा हूँ ।।

3 Likes

आपकी रचना दिल मे समा गई।
बेहद ही प्यारी कविता :heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes::purple_heart:

2 Likes

Thanks you so much :heart_eyes: