ग़ैब की ख़बर ...।("Secrets of the heart")

तेरी महफ़िल में अब मेरे निशान कहाँ मिलते हैं ,
जो होगया था वीरान ,वहां अब फूल कहाँ खिलते हैं ।

ढूंढ रहा हूँ ,उस फ़लक़ को गुमशुदा , यूँ हो कर ,
न जाने वो कौनसा अर्श है जहाँ दो आसमाँ मिलते हैं ।

जो निर्भय बोल चिर दें अर्णव का सीना भी ,
वह निर्भीक नज़्म-ए-ज़ीशान ,अब कहाँ मिलते हैं ।

यकसां नहीं देखा है तेरे जैसा कोई अब तक ,
मेरा दिल ही तो है जहाँ कईं किरदार,कईं इंसान मिलते हैं ।

  • शाहीर रफ़ी

Word meanings :
ग़ैब - that which is hidden/latent, hidden thought ,here refers to the unveiled secrets of
heart .
अर्श,फ़लक़ - sky.
अर्णव - समंदर (sea, ocean)
निर्भीक - निर्भय का पर्यायवाची शब्द , fearless.
नज़्म-ए-ज़ीशान - the ornate poetry/verse of that grandeur status.
यकसां - एक प्रकार का ,in persian language, yak(यक) means one ,यकसां here symbolises uniqueness.

4 Likes

nice post again
bahut accha likhte ho dost @Shaheer_Rafi :+1::+1::+1:

1 Like

Kalam Mai zoor hai apki

1 Like

Shukriya

bohot khoob…

1 Like