Relationship goals.. ( sry , loveyou & thank you )

आज कल के प्यार की दास्तान बताता हूँ ।
चल तेरी ही इश्क़ की कहानी सुनाता हूँ

पहले जुस्तुजू ।
फिर कई रातों की गुफ़्तुगू ।
फिर मुलाकातें रूह ब रूह ।
झूठी बाते पहले जैसी हू ब हू ।
फिर उसके हाथों से लब ,लब से रूह ।
गुजरते वक़्त के साथ सब कुछ लेते हैं छू ।

बस यहां तक सब ठीक था ।।

फिर इसके बाद से जिस्मो की खुश्बू भी बन जाती गन्दी बू ।
बंदिशों के नाम पे करते एक दूसरे की थू थू ।
फिर ये कहानी खत्म और बन जाते अजनबी बोल के लव यू , सॉरी & थैंक यू ।

पर ये अंजाम नहीं आगाज़ होता हैं ।
फिर यही बार बार होता हैं ।
मेरे क़लम से छपी हैं ये बात ।
मगर शामिल हैं इसमे सब के सब चाहे वो में हूँ या के तू

4 Likes

Fantasticooo!!

1 Like

Truth of new generation…

Nice post friend :clap::clap::clap:

1 Like

Shukriya shukriya

1 Like

Yeah, somewhere it’s definitely true.

2 Likes

It’s a new trend …:face_with_head_bandage:

1 Like