Poem on Punjab

सोहणी सोहणी गानियाँ जीदे गल्ल विच आब दी;
ओ धरती ऐ सजणा रंगीली पंजाब दी;

… लंगदी बहार सी जित्थों तुरना सी भुल्ल गई;
रात रानी दी जापदी महक सी डुल्ल गई;
कुदरत दा बुन्दा जित्थे आके सी डिग्ग्या;
अमनां तों दामन जित्थे धरती दा भिज्ज्या;
खुशियाँ दी किरनां वंड होए सवेर महताब दी;
सोहणी सोहणी गानियाँ जीदे गल्ल विच आब दी;
ओ धरती ऐ सजणा संगीली पंजाब दी;

…बागां विच सोहणी जित्थे पीन्गां ने पान्दियाँ;
खूहे तों आंदे होए गीतां नू गान्दियाँ;
केश जित्थे धरती दे खेतां’च लहरान्वदे;
कन्कां दी खुश्बोई बन साहवां’च पसारदे;
तसवीरां ने ऐत्थे कुदरत दे शबाब दी;
सोहणी सोहणी गानियाँ जीदे गल्ल विच आब दी;
ओ धरती ऐ सजणा संगीली पंजाब दी;

… गुरूआं दी बानी ऐत्थे वादियाँ विच शूक्दी;
रांझे हीर दी कहानी ‘मजबूर’ दिलां’च गूंज्दी;
बुल्ले शाह दे कलाम जित्थे रब तो मिलान्वदे;
सुरिंदर कौर दे गीत जित्थे व्याहवां विच गान्वदे;
हर आशक बोले शायरी शिव दी किताब दी;
सोहणी सोहणी गानियाँ जीदे गल्ल विच आब दी;
ओ धरती ऐ सजणा संगीली पंजाब दी;
~गौरव मजबूर

3 Likes