My love, my papa

अपने परिवार के खातिर
मैंनें उन्हें धूप में तपते देखा है,
अपने बच्चों की एक अच्छी life के लिए
मैंने उन्हें दिन रात खटते देखा है,

हम बस खुश रह सकें इसके लिए
उन्हें हर दिन भटकते देखा है,
मुझे दर्द में रोते हुए देखकर
मैंनें उन्हें अंधेरों में सिसकते देखा है,

बेशुमार प्यार दिल में होते हुए भी
बेशक कभी प्यार जताते नहीं देखा है,
मगर मेरी तकलीफ और उदासी देखकर
मैंने उन्हें भूखे सोते हुए भी देखा है,

मेरी हर जरूरत पूरी करने के खातिर
मैंनें पापा को अपनी ख्वाहिशें दबाते देखा है,
इसी बेटी की विदाइ हो जाने पर
मैंने उन्हें बच्चों सा बिलखते भी देखा है।।।

4 Likes

Welcome to YoAlfaaz family.
Your work is impressive.
I’d like to read some more of it.

2 Likes

Thanx :slight_smile:

1 Like

@POOJA_BARNWAL tumne bahut khoob likha hai
or jab bacche apne maa baap ke liye itna sochne lage or mehsoos kare unke har dard ko
wahi se unki keemat or badh jaati hai

Welcome to YoAlfaaz family @POOJA_BARNWAL
keep writing and sharing your work :slightly_smiling_face:

1 Like

Thanx a lottt for this lovely comment…:slight_smile:

1 Like