MAJOR VIBHUTI

मेजर विभूति ढौंढियाल

इस दुनिया में एसा कोई बचा न होगा !
जिसे तेरी शहादत ने रूलाया न होगा !!
वो ग़द्दार है वफ़्फ़ादर नही
जिसके मन को तू अब भी भाया न होगा !!!
फिर मिलेंगे एसी दुनिया में ,
जहाँ आतंक का साया न होगा !!

तू तो वतन से करगया तेरी मोहब्बत का इजहार!
लेकिन हमें कर गया हमेसा के लिए क़र्ज़दार !!
वो देश भी कितना ख़ुशनसीब है ,
जिसने पाया तेरे जैसा सचा वफ़ादार !!!

उस रात को कैसे तेरी पत्नी सोयी होगी !
जाने कैसे तेरी बहन ने तेरी राखी खोयी होगी !!
लेकिन ये सोच जो माँ तेरे पैदा होने पे हँसी थी ,
वो माँ उस रात कैसे फूट-फूट कर रोयी होगी !!!

ना चुका पाएँगे तेरी शहादत का क़र्ज़ !
ना अदा कर पाएँगे इस मिट्टी का फ़र्ज़ !!

तुम्हारे प्यार में बहुत दम था
ना तो तेरा प्यार वतन से कम था ,
ना तेरी पत्नी का प्यार तुझसे कम था !
बस तू हमारे बीच नही रहा
इसी चीज़ का एक ग़म था !!

वी लव यू विभूति ,वी मिस यू विभूति

UNIQUE ABHISHEK CHOUDHARY

4 Likes

Nice piece of writing… welcome to YoAlfaz family, keep inking and keep inspiring :blush::hugs:

2 Likes

Welcome to YoAlfaaz. :heart:
Keep writing and inspiring. :heart:

2 Likes

very nice and interesting start and so is our awesome post @Uniqueness
and
Welcome to YoAlfaaz family :slightly_smiling_face:
keep writing and sharing

1 Like

very well written… :slight_smile:

1 Like