Kashti pe savar

हम भी कभी सवार थे उसी कश्ती में, जिसपे तू आज सवार है…

हम भी कभी सवार थे उसी कश्ती में, जिसपे तू आज सवार है,

लेकिन कश्ती डूबाई हमने तो नहीं थी… फिर नजाने हमपे ही क्यों ये इल्ज़ामात है…

4 Likes

Wow. :heart:

1 Like

thanks :slight_smile::slight_smile: