Ishq ka kheal

टूटे शिशो को घर में कोई रखता है क्या ,
अपनी आदत लगा कर ,कोई किसी को छोड़ता है क्या ,

ये कहां तक जायज है , तुम ही बताओ
अपने मजे के लिए ,कोई किसी के दिल से खेलता है क्या।

8 Likes

Heart wrenching write, but the flow of emotions are beautiful.:heart:

1 Like

I Knew You Had It In You! the awesome writer