Ehasas

तुझ में बसा हूँ मैं , तुझ से जुड़ा हूँ मैं,
कहीं दीदार से तो कहीं इकरार से,
खैर मेरे दिल की बात से , तो कुछ मेरे इज़्हार से ,
सोचता हूँ कि तुझ से दिल की बात को मैं कह दूं ,
कि वक़्त है मेरे पास, यकीनन लिख नही पाया
लेकिन सोचता हूँ कि वक़्त रहते मैं तेरा हो लूँ ।

जुपिटर
@competition

2 Likes

:heart::heart:

1 Like

Bhut shukriya :bouquet::bouquet::bouquet: