Dil ki awaz Kaise jhutlaoge

कभी जो झांकोगे आँखों में मेरी तुम…

नज़रें फिर कभी फेर नहीं पाओगे…

लाख चाहे बनालो बहाने हमसे…

अपने दिल की आवाज़ को कैसे झुठलाओगे!!

3 Likes

Nice post bro :ok_hand::ok_hand:

1 Like

Thanks buddy :hugs:

1 Like