Barish aur teri yaad

क्यों ये बारिश की बूंदे अनचाही यादों को भिगो के ताज़ा करती है…

भला क्यों ये बादलों को चीरती हुई बिजली मेरे दिल का हाल बयां करती है…

क्यों ये बादलों का अँधेरा मेरे जीवन के अतीत की गवाही देता है…

और क्यों ये आसमान का बदलता रंग मुझे तेरी याद देता है…

3 Likes

Thank you

2 Likes